रणवीर सेना के एक पर्चे से राजनितिक हलकों में मची सनसनी,ब्रह्मेश्वर जूनियर के नाम से जारी इस पर्चे में एनडीए को दी गयी चुनौती

0
242

मध्य बिहार में नक्सली संगठन के प्रभुत्व को समाप्त करने के लिए बनी संगठन रणवीर सेना काफी अरसे के बाद एक बार फिर चर्चे में आ गयी है.क्योंकि संगठन के नाम से जारी एक पत्र ने राजनितिक हलकों में सनसनी फैलाकर रख दी है. काफी अर्से से चुप्पी साधे रहने वाली प्रतिबंधित संगठन रणवीर सेना एक बार फिर चर्चा में आ गई है.ब्रह्मेश्वर जूनियर के नाम से बांटे गए इस पर्चे में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पर एक जाति विशेष को हाशिए पर धकेलने का आरोप लगाया गया है.साथ ही साथ यह चुनौती भी दी गई है कि आसन्न लोकसभा चुनाव में आरा सहित सवर्ण बहुल कई संसदीय क्षेत्रों से अपने प्रत्याशी खड़ा करने की बात की गई है.

 

पर्चे में यह लिखा गया है कि एनडीए के द्वारा जिस तरह से एक जाति विशेष को दरकिनार करने की कोशिश की गई है उसे सेना बर्दाश्त नहीं करेगी.क्योंकि जिस जाति विशेष द्वारा एनडीए सरकार को बनाने में अहम भूमिका निभाई गयी थी उन्हें ही राजनितिक परिदृश्य से हटाने की कोशिश की जा रही है और इसे रणवीर सेना कभी बर्दाश्त नहीं करेगी.पर्चे में यह भी

लिखा गया है कि जिस प्रकार सेना के द्वारा नक्सलियों की कमर तोड़ी जा सकती है वैसे सत्ता से उन्हें भी मसल सकती है. बस सिर्फ वक्त का इंतजार है. गौरतलब है कि रणवीर सेना की स्थापना के बाद इसके संस्थापक एवं सुप्रीमों ब्रह्मेश्वर मुखिया ने वर्ष 2004 के लोकसभा चुनाव में आरा जेल में रहते हुए निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ा और 1570003 मत लाकर लोगों को सकते में डाल दिया था.

 

परन्तु वर्ष 2012 के कतीरा गांव में मुखिया जी की हत्या अपराधियों द्वारा कर दी गई थी. मुखिया जी की मौत के बाद उनके उत्तराधिकारी के रूप में उनके छोटे पुत्र ने इंदु भूषण शर्मा ने राष्ट्रवादी किसान महासंघ बनाकर अपनी आवाज को मुखरित किया.उन्होंने किसानों की हक और अधिकार की लड़ाइयाँ लड़ी और क्षेत्र से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में जोर आजमाइश की। उस वक्त चुनाव में बीजेपी की लहर थी जिसके कारण ब्रह्मेश्वर मुखिया के पुत्र को मुंह की खानी पड़ी और उनकी जमानत भी जप्त हुई.हालांकि बांटे गए पर्चे को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है और इसकी विश्वसनीयता को लेकर कई प्रश्न किये जा रहे हैं. पर्चे को लेकर जिला प्रशासन द्वारा भी किसी तरह की कोई बयानबाजी जारी नही की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here