शांति एवं सौहार्दपूर्ण माहौल में सम्पन्न हुआ रामनवमी की शोभायात्रा, सुरक्षा के थे पुख्ता इन्तेजाम

0
40

पिछले वर्ष रामनवमी जुलूस के दौरान हुए साम्रदायिक हिंसा एवं तनाव से इतर इस बार रामनवमी जुलूस एवं भगवान राम जानकी एवं हनुमान की शोभायात्रा शांतिपूर्ण एवं सौहार्दपूर्ण माहौल में सम्पन्न हो गया और जिला प्रशासन ने चैन की सांस ली।पिछले वर्ष के कड़े अनुभवों को देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा इस बार हिंसे के संभावित क्षेत्रों को चिन्हित करते हुए हर जगह पर सुरक्षा के पुख्ता इंतेजाम किये गए थे ताकि किसी भी असामाजिक तत्व को कही से भी उपद्रव करने का मौका न मिल सके।

जिला प्रशासन द्वारा शहर के पुरानी जीटी रोड मुख्य बाजार में स्थित जामा मस्जिद से लेकर धर्मशाला मोड़ तक जगह जगह पर बैरिकेटिंग करते हुए भारी संख्या में महिला एवं पुरुष पुलिस बल की तैनाती की गई थी और सीआरपीएफ के जवानों को भी लगाया गया था।कई पुलिसकर्मी चितकबरे ड्रेस में लगातार शहर के मुख्य एवं प्रमुख सड़कों पर बाइक से भी गस्ती कर रहे थे।पूरे बाजार को इस दौरान सीसीटीवी कमरे से निगरानी की जा रही थी और शोभायात्रा में पूजा समितियों के सभी सदस्यों पर बारीकी से नजर भी रखी जा रही थी।खुद एसडीओ डॉ प्रदीप कुमार एवं एसडीपीओ अनुप कुमार शोभायात्रा से पूर्व पूरे शहर की पेट्रोलिंग करते नजर आए और मस्जिद के पास खड़े होकर सुरक्षा व्यवस्था को लेकर निगरानी में लगे रहे।इस दौरान जुलूस में शामिल कुछ युवाओं की गतिविधियों को देखते हुए उनकी तलवारों को पुलिस द्वारा जप्त किया गया।

धूमधाम से निकला शोभायात्रा

रामनवमी को लेकर औरंगाबाद में आज एक भव्य शोभायात्रा निकाली गयी। गाजे बाजे के साथ विभिन्न अखाड़ों की तरफ से निकाली गयी यह शोभा यात्रा शहर के विभिन्न मार्गों से होकर गुजरते हुए ठाकुरबाड़ी तक पहुंचा जहां से सभी अखाड़ों का जुलुस एकजुट होकर मेन रोड होते हुए रमेश चौक पहुंचकर यह यात्रा समाप्त हो गयी।शोभायात्रा में शहर की प्रमुख समितियों द्वारा भगवान श्रीराम,जानकी,हनुमान एवं भारत माता की भव्य झांकी निकाली गई और पूरे शहर के लोगों ने इस नयनाभिराम दृश्य का न सिर्फ अवलोकन किया बल्कि शोभायात्रा का हिस्सा बन जय श्रीराम के नारे लगाए।शोभायात्रा में युवाओं एवं बच्चों का उत्साह देखते ही बनता था।पूजा समिति के सभी सदस्य एवं नगर के युवा हाथों में पारम्परिक हथियारों को लेकर शहर का भ्रमण किया और ढोल नगाड़ों की थाप पर जमकर नृत्य किया।जुलूस में बच्चे हो या बूढ़े सभी ने लाठी एवं तलवारों के माध्यम से अपनी कला का प्रदर्शन किया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here