बाबा साहेब की जयंती के अवसर पर संगोष्ठी का हुआ आयोजन

0
24

औरंगाबाद कल्याण छात्रावास संविधान निर्माता डॉ भीमराव अंबेडकर की 128 वी जयंती धूमधाम से मनाई गयी.जयंती समारोह का उद्घाटन आगत अतिथियों द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया.इस अवसर पर “बाबासाहब और उनकी विचारधारायें” विषय पर एक संगोष्ठी का आयोजन भी किया गया जिसमे वक्ताओं ने अपनी अपनी राय एवं व्यक्तव्य से लोगों को अवगत कराया.संगोष्ठी की शुरुआत छात्रों एवं अतिथियों ने सामुहिक रुप से बाबा साहेब की तस्वीर पर पुष्प अर्पित कर की गयी.संगोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि आये डॉ जन्मेजय कुमार ने बाबा साहेब के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला और उनके सिद्धांतों को आत्मसात करने की जरुरत पर जोर दिया.

 

वार्ड सदस्य संघ के जिला अध्यक्ष सह प्रदेश उपाध्यक्ष अभय पासवान ने बताया कि आज देश में दो तरह की  विचारधारा चल रही है.एक तरफ संसद के सामने संविधान को जलाया जा रहा है, तो दूसरी तरफ बाबा के अनुयायी सविधान बचाने की कोशिश कर रहे है.संविधान किसी जात, मजहब एवं धर्म को देखकर नहीं बनाया गया था बल्कि सबको समानता का अधिकार प्राप्त हो इस उद्देश्य को लेकर बनाया गया था.

इसे बनाने वालों की सोच में यह थी कि सभी वर्ग चाहे वह दलित समुदाय का क्यों न हो उसे भी बेहतर शिक्षा प्राप्त हो.लेकिन आज भी दलित आर्थिक तंगी के कारण बेहतर शैक्षिणिक व्यवस्था से वंचित होना पड़ रहा है. समाज में कई तरीके के भ्रांतिया फैलाई जा रही है.अनुसूचित जाति एवं जनजाति के लोग आपस में जात पात के चक्कर में अलग-थलग हो रहे हैं. यहां अलग-थलग होने की जरूरत नहीं है.

 

सभी लोग एक समान है और सब को बस बहुजन के रूप में एक होकर के रहने की जरूरत है. तभी जाकर बहुजनो का अधिकार प्राप्त हो सकता है. श्री पासवान ने कहा कि बाबा साहेब संगठित हो, संघर्ष करो, शिक्षित बनो का नारा बुलंद किया था आज हमें उसी सिद्धांत को अम्ल करना है.इस कार्यक्रम में जिला पार्षद अनिल यादव जिला पार्षद शंकर यादव राजद जिला प्रवक्ता रमेश यादव,मनीष कुशवाहा राष्ट्रीय दलित मानवाधिकार के अध्यक्ष राजेश्वर पासवान,अर्जुन पासवान,सुरेंद्र प्रसाद एवं पूर्व जिला पार्षद मनोरमा देवी अधिवक्ता मधेश्वर पासवान अधिवक्ता विनोद यादव भीम आर्मी के जिला अध्यक्ष विकास कुमार शेखर पासवान वीरेंद्र कुमार छोटू प्रवीण कुमार राजेश पासवान शनि कुमार दीपक कुमार सहित सैकड़ों छात्र उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here