श्रीलंका में हुये आतंकी सीरियल हमलों पर विशेष

0
34

भोलानाथ मिश्र,वरिष्ठ पत्रकार(समाजसेवी, रामसनेहीघाट, बाराबंकी यूपी)

दुनिया में शैतानियत का साम्राज्य कायम करने वाले आतंकियों ने एक बार फिर इंसानियत के पुजारियों में खौफ का माहौल पैदा करने के लिए आतंकी हमला करके मानवता को शर्मसार कर दिया है। इस बार दुनिया में हिंसा के जरिए अपने साम्राज्य की स्थापना करने का ख्वाब देख रहे शैतानों ने श्री लंका को अपना निशाना बनाया है। एक तरफ जहां दुनिया में अहिंसा परमो धर्मा का पाठ पढ़ा कर इंसानियत का पैगाम दिया जा रहा है वहीं पर कुछ सिरफिरे लोग उसके विपरीत हिंसा परमो धर्मा की डगर पर चलकर पूरी दुनिया में आतंक का राज कायम करना चाहते हैं।

 

इन आतंकियों द्वारा अपने मंसूबों को लक्ष्य प्रदान करने के लिए अब तक दुनिया भर के तमाम देशों में समय समय पर इस तरह के कायराना हमले करके बेगुनाहों का खून बहाया जा चुका हैं और यह क्रम लगातार जारी है। इन आतंकियों के शिकार दुनिया के छोटे देश ही नहीं बल्कि दुनिया के वह लंबरदार देश भी हो चुके हैं जो अपने को संसार का सर्वशक्तिमान और दुनिया का दादा मानते हैं और अपनी ताकत पर इठलाते घूम रहे हैं। श्रीलंका में कल हुए सीरियल आतंकी हमले में दो सौ से ज्यादा बेगुनाह लोगों की मौत हो चुकी है और तमाम लोग घायल होकर जिंदगी मौत से संघर्ष कर रहे हैं।

आतंकियों का यह कायराना हमला ईसाइयों के धर्म स्थानों पर ऐसे समय किया गया है जबकि वह अपने पर्व पर ईश्वर की इबादत करने के लिए एकत्र हुए थे। आतंकी हमले श्रीलंका में एक स्थान पर नहीं बल्कि कई शहरों में एक सोची-समझी साजिश के तहत एक साथ किए गए हैं। श्रीलंका में धार्मिक स्थानों पर हुए हमलों से एक बार फिर पूरी दुनिया कांप उठी है। श्रीलंका के इतिहास में इतना बड़ा आतंकी हमला पहली बार हुआ है और समझा जाता है कि यह आतंकी आत्मघाती हमला इस्लामिक आतंकवाद द्वारा प्रायोजित किया गया है हालांकि अब तक किसी भी इस्लामिक अथवा गैर इस्लामिक संगठन द्वारा इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली गई है।

 

फिर भी वहां की गुप्तचर एजेंसियो द्वारा आशंका व्यक्त की जा रही है यह हमला इस्लामिक आतंकियों द्वारा किया गया है। इस हमले में खासतौर पर ईसाई समुदाय के लोगों को निशाना बनाया गया है और वहाँ की पुलिस इस सम्बंध में कई लोगों को गिरफ्तार भी कर चुकी है जिनसे पूंछतांछ की जा रही है। सभी जानते हैं कि दुनिया में हिंदू मुसलमान ईसाई से होने से पहले हर व्यक्ति ईश्वर का बनाया हुआ एक इंसान होता है क्योंकि ईश्वर कभी जाति धर्म संप्रदाय के लोगों को नहीं बल्कि इंसान को पैदा करता है। इसीलिए कहा भी गया है कि सबका मालिक एक है जिसे मुसलमान नूर तो हिंदू ज्योति और ईसाई मूनलाइट कहता है और सब का मतलब एक रोशनी होता है।

आतंकियों का यह हमला मात्र श्री लंका के इसाइयों पर नहीं बल्कि दुनिया भर के अमन चैन पसंद ईश्वर खुदा के बंदो पर हुआ है। सभी जानते हैं कि एक समय में श्रीलंका में रावण का राज हुआ करता था और उसकी शैतानियां इस कदर बढ़ गई थी कि ईश्वर को खुद इंसान के रूप में आकर उसके साम्राज्य को नेस्तनाबूद करना पड़ा था। कल श्रीलंका में हुए आतंकी हमले के बाद एक बार फिर रावण की शैतानी साम्राज्य की याद ताजा हो गई है। आतंकियों ने रावण की हैवानियत को भी पीछे छोड़ दिया है और ईश्वर के निजाम को खुली चुनौती दी गई है।

 

आज पूरी दुनिया इन आतंकियों के हमलों से परेशान होकर ईश्वर से इनसे बचाव की गुहार लगा रही है। दुख की बात तो यह है कि एक तरफ अमेरिका ब्रिटेन फ्रांस जैसे महा शक्तिशाली लंबरदार कहे जाने वाले देश भी इन आतंकियों के मंसूबों पर पानी नहीं फेर पा रहे हैं और इनके सफाई की जगह इनके सामने घुटने टेककर अपनी अपनी बारी आने की राह देख रहे हैं। दुनिया जानती है कि इन आतंकियों को हमारा पड़ोसी देश पाकिस्तान अपने यहां पर पैदा करके उन्हें संरक्षण देकर दुनिया में आतंकी राज कायम करने के लिये बढ़ावा दे रहा है।

आज हम सबसे पहले श्रीलंका में हुये आतंकी हमले में शहीद होने वाले बेगुनाह लोगों को श्रद्धांजलि देते हुए उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से कामना करते हैं और ईश्वर से कामना करते हैं कि वह इनके परिजनों को इस अपार दुख को सहने की शक्ति प्रदान करें। सभी जानते हैं कि इन शैतानी हरकतैं करने वाले आतंकियों का कोई धर्म मजहब नहीं होता है ऐसे लोग सिर्फ ईश्वर और इंसानियत के दुश्मन मात्र हो सकते हैं। कभी इस्लाम प्रेमी मुसलमान आतंकी शैतान नही हो सकते हैं और न ही ईश्वर के भक्त हो सकते हैं। जो ईश्वर के भक्त नहीं हो सकते वह कभी ईश्वर के बच्चे नहीं हो सकते हैं।

 

ऐसे नापाक पागल आतंकी लोगों को दुनिया की पाक सरजमी से हटाना किसी एक देश का नहीं बल्कि दुनिया के सभी देशों का परम दायित्व बनता है। श्रीलंका में कल हुए सीरियल बम ब्लास्ट की जितनी भी निंदा की जाए उतनी ही कम है। हम दुनिया भर के देशों से यह अपील करते हैं कि इन आतंकियों को समूल नष्ट करने के लिए मानवता के नाम पर एकजुट होकर समय रहते इनकी जड़ों को काट कर फेंक दें ताकि इनके मंसूबों पर पानी फेरा जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here